सोमवार, 19 सितंबर 2022

2 अर्न्तराज्जीय शराब तस्कर से 850 पाव अंग्रेजी शराब जप्त, थाना सूरजपुर पुलिस की कार्यवाही।शराब परिवहन में प्रयुक्त होण्डा अमेज कार भी किया गया जप्त


सूरजपुर। पुलिस अधीक्षक श्री रामकृष्ण साहू ने अवैध नशे के कारोबार पर पूर्णतः अंकुश लगाने के निर्देश थाना-चौकी प्रभारियों को दिए थे जिसमें थाना-चौकी की पुलिस के द्वारा अवैध धंधे पर लगातार कार्यवाही जारी है। इसी कड़ी में रविवार को कोतवाली पुलिस ने मुखबीर की सूचना पर 2 अर्न्तराज्जीय शराब तस्कर को पकड़ा है जिनके कब्जे से 850 पाव अंग्रेजी शराब एवं परिवहन में प्रयुक्त कार जप्त कर आबकारी एक्ट के तहत कार्यवाही किया है। दिनांक 18.09.22 को थाना सूरजपुर पुलिस को मुखबीर से सूचना मिली कि शहडोल मध्यप्रदेश से एक सफेद रंग के कार होण्डा अमेज क्रमांक एमएच 03 सीएच 1073 में दो व्यक्ति भारी मात्रा में अंग्रेजी शराब विक्रय करने हेतु सूरजपुर की ओर आने वाले है। मामले की सूचना से पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री रामकृष्ण साहू को अवगत कराने पर उन्होंने पूर्ण सर्तकता के साथ घेराबंदी लगाकर कार्यवाही करने के निर्देश दिए। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मधुलिका सिंह व एसडीओपी सूरजपुर प्रकाश सोनी के मार्गदर्शन में थाना सूरजपुर की पुलिस ने ग्राम परसापारा मेन रोड़ सुतिया नाला के पास नाबाबंदी लगाया। परसापारा में लगाए गए नाकाबंदी में एक सफेद रंग का होण्डा अमेज कार आते दिखा जिसे मुस्तैदी से घेराबंदी कर कार सहित रमाकांत उर्फ राहुल तिवारी पिता मनोज तिवारी उम्र 21 वर्ष निवासी हरदी 32, मिर्ची टोला, थाना शिवपुर जिला शहडोल मध्यप्रदेश एवं अंकित शर्मा पिता रमाशंकर शर्मा उम्र 24 वर्ष निवासी टिकरीटोला वार्ड क्र. 15 बुढ़ार, थाना बुढ़ार, जिला शहडोल मध्यप्रदेश को पकड़ा गया। कार की तलाशी लेने पर उसमें अंग्रेजी शराब मिला जिसके संबंध में दोनों से दस्तावेज की मांग किए जाने पर कोई दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किए। आरोपियों के कब्जे से गोवा अंग्रेजी शराब 850 पाव पाया गया। मामले में गोवा अंग्रेजी शराब कीमत 62,900 रूपये एवं परिवहन में प्रयुक्त होण्डा अमेज कार कीमत 4,00,000 रूपये का जप्त कर धारा 34(2) आबकारी एक्ट के तहत कार्यवाही कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। इस कार्यवाही में थाना प्रभारी सूरजपुर प्रकाश राठौर, एसआई संतोष सिंह, एएसआई हीरालाल साहू, रघुवंश सिंह, प्रधान आरक्षक मोहम्मद तालिब शेख, आरक्षक लक्ष्मी नारायण मिर्रे, रामकुमार नायक, सत्यम सिंह, राधेश्याम साहू व प्रदीप साहू सक्रिय रहे। 

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3
सायबर की पाठशाला में आज तीसरे पाठ में हम समझने की कोशिश कर रहे हैं कि एक सुरक्षित लिंक कैसा दिखता या होता है। धोखेबाज/अपराधी आम लोगों को ठगने के लिए बैंको के नाम से मिलते जुलते नाम या अक्षरों का प्रयोग करके एक यूआरएल/URL बनाता है और उसे मोबाइल पर सीधे मैसेज के रूप में भेजता है इन लिंकनुमा URL पर क्लिक करते ही आप ठगी के शिकार हो जाते हैं। यदि लिंक में anydesk, mingle, teamviewer जैसे शब्द हैं तो आपके फोन को हैक करने का प्रयास हो रहा है, तुरंत मैसेज डिलिट करें। लिंक पर क्लिक बिलकुल न करें। अनजान से व्यक्तियों से फोन पर ज्यादा बात न करें और न ही उन्हें किसी भी तरह की जानकारी दें चाहे कुछ भी हो जाए। तभी आप ठगी से बच पाएंगे। इस तरह के फर्जीवाड़ों पर और विस्तार से जानकारी के लिए इस श्रृंखला पर नजर बनाए रखें। पिछले पाठों को फिर से जानने के लिए/ पुनरावलोकन के लिए तस्वीर पर क्लिक करें या ऊपर के संबंधित टैब (सायबर की पाठशाला) पर क्लिक करें।