सोमवार, 19 सितंबर 2022

एसडीओपी सूरजपुर गीता वाघवानी के स्थानान्तरण पर पुलिस परिवार सूरजपुर ने दी विदाई

सूरजपुर। 1 वर्ष तक जिले में अपनी सेवाएं देने के बाद एसडीओपी सूरजपुर गीता वाघवानी का स्थानान्तरण डीएसपी बालक विरूद्ध अन्वेषण शाखा जिला बालौद हुआ है। स्थानान्तरण पर पुलिस परिवार सूरजपुर के द्वारा रविवार, 18 सितम्बर को जिला पुलिस कार्यालय में विदाई सम्मान का आयोजन किया गया। जहां पुलिस अधीक्षक श्री रामकृष्ण साहू व पुलिस राजपत्रित अधिकारियों ने स्थानान्तरित एसडीओपी को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री रामकृष्ण साहू ने कहा कि एसडीओपी गीता वाघवानी सदैव अपने कार्यो के प्रति सजगता के साथ कार्य कर अधिनस्थों को सहयोग व मार्गदर्शन देते रहे। कर्तव्य निष्ठ रहते हुए अनुशासन को बनाए रखा। जिले में बेहतर कार्य किये, पुलिस की अभियानों, खासकर बाईक चोरों पर कार्यवाही, उठाईगिरी सहित अन्य मामलों के खुलासा में इनकी अहम भूमिका रही इससे लोगों में पुलिस के प्रति विश्वास और बढ़ा, इनकी पुलिसिंग में संवेदनशीलता दिखती थी, न दिन देखा न रात हर परिस्थितियों में अधिनस्थों के साथ डटे रहा और कार्यवाहियों को गति दिया। कार्यक्रम के अंत में एसडीओपी गीता वाघवानी ने जिले में किए अपने कार्यो के बारे में अनुभव साझा कर कहा कि पुलिस अधीक्षक महोदय के मार्गदर्शन में अच्छा कार्य करने और कई कार्यवाहियों के दौरान अच्छी चीजे सीखने का मौका मिला, यहां की पुलिस टीम अच्छी है और अपने कर्तव्यों के प्रति सजग एवं संवेदनशील है, किसी भी कार्य को टीमवर्क करते हुए सफलता हासिल करती है। इस अवसर में जिले के पुलिस अधिकारियों के द्वारा स्थानान्तरित एसडीओपी को पुष्पगुच्छ भेटकर उनका सम्मान किया। इस दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मधुलिका सिंह, सीएसपी जे.पी.भारतेन्दु, एसडीओपी प्रेमनगर प्रकाश सोनी, डीएसपी मुख्यालय नंदिनी ठाकुर, एसडीओपी ओड़गी राजेश जोशी, एसडीओपी प्रतापपुर अमोलक सिंह, प्रशिक्षु डीएसपी दीपमाला कुर्रे, जिले के सभी थाना-चौकी प्रभारी, जिला पुलिस कार्यालय के अधिकारीगण मौजूद रहे। 

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3
सायबर की पाठशाला में आज तीसरे पाठ में हम समझने की कोशिश कर रहे हैं कि एक सुरक्षित लिंक कैसा दिखता या होता है। धोखेबाज/अपराधी आम लोगों को ठगने के लिए बैंको के नाम से मिलते जुलते नाम या अक्षरों का प्रयोग करके एक यूआरएल/URL बनाता है और उसे मोबाइल पर सीधे मैसेज के रूप में भेजता है इन लिंकनुमा URL पर क्लिक करते ही आप ठगी के शिकार हो जाते हैं। यदि लिंक में anydesk, mingle, teamviewer जैसे शब्द हैं तो आपके फोन को हैक करने का प्रयास हो रहा है, तुरंत मैसेज डिलिट करें। लिंक पर क्लिक बिलकुल न करें। अनजान से व्यक्तियों से फोन पर ज्यादा बात न करें और न ही उन्हें किसी भी तरह की जानकारी दें चाहे कुछ भी हो जाए। तभी आप ठगी से बच पाएंगे। इस तरह के फर्जीवाड़ों पर और विस्तार से जानकारी के लिए इस श्रृंखला पर नजर बनाए रखें। पिछले पाठों को फिर से जानने के लिए/ पुनरावलोकन के लिए तस्वीर पर क्लिक करें या ऊपर के संबंधित टैब (सायबर की पाठशाला) पर क्लिक करें।