सोमवार, 18 नवंबर 2019

मुलजिम पेशी गार्ड को रक्षित निरीक्षक ने किया चेक..........


पुलिस अधीक्षक ने बंदी पेशी हेतु कर्तव्यस्थ गार्डो की आकस्मिक चेकिंग करने दिए निर्देश.......

सूरजपुर। माननीय न्यायालय के समक्ष विचाराधीन बंदियों को पेशी हेतु सुरक्षित लाने व ले जाने, कोर्ट परिसर में बंदियों को रखने के स्थान पर चुस्त दुरूस्त सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखने के साथ ही थाना प्रभारी व रक्षित निरीक्षक को नियमित रूप से बंदी पेशी हेतु कर्तव्यस्थ गार्डो की आकस्मिक चेकिंग करने के निर्देश पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री राजेश कुकरेजा ने दिए है।
पुलिस अधीक्षक के निर्देश के बाद पुलिस के अधिकारीगण प्रतिदिन गार्ड की चेकिंग कर रहे है। इसी परिपेक्ष्य में सोमवार 18 नवम्बर को रक्षित निरीक्षक भूपेन्द्र कुर्रे ने न्यायालय परिसर में बंदी पेशी गार्ड को चेक किया। उन्होंने चेकिंग के दौरान ड्यूटी में तैनात पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों को निर्देश दिए कि माननीय न्यायालय के समक्ष बंदियों को पेशी हेतु ले जाने व वापस लाने के दौरान पूर्ण सर्तकता बरती जावे। कोर्ट लाने के पूर्व उनकी नियमित व बारीकी से चेकिंग की जावे, बंदियों को किसी भी प्रकार का अनुचित लाभ न पहुंचे इस पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए। रक्षित निरीक्षक ने मुलजिम गार्ड को ड्यूटी के दौरान कर्तव्य स्थल को किसी भी परिस्थिति में न छोड़ने की सख्त हिदायत दी।

गुरुवार, 14 नवंबर 2019

धोखाधड़ी के मामले में फरार 2 आरोपी को प्रेमनगर पुलिस ने किया गिरफ्तार.............

पुलिस अधीक्षक ने फरार आरोपियों की गिरफ्तारी हेतु चला रखा है अभियान

सूरजपुर। गत् 03/08/17 को ग्राम कोटेया थाना प्रेमनगर निवासी राम सिरदार ने थाना प्रेमनगर में रिपोर्ट दर्ज कराया कि वर्ष 2014 में मैग्मा फाईनेंस कंपनी से लोन लिया था और सोनालिका कंपनी का टेªक्टर व ट्राली खरीदा था जिसका डाउन पेमेंट 1 लाख 60 हजार रूपये किया था शेष राशि का किस्त बना था जिसका किस्त टूटने से कंपनी के द्वारा वाहन को सीज करने हेतु सीजर राकेश सिंह अपने कर्मचारी अमीन खान व उसके साथी को ग्राम कोटेया भेजकर टेªक्टर व ट्राली को सीज कर अम्बिकापुर मंगाया और इंजन को महामाया यार्ड में जमा कर दिया गया व ट्राली को जमा नहीं किए। कंपनी के कर्मचारी अजय चैबे प्रार्थी से कई बार किस्त की राशि प्राप्त कर कंपनी में जमा नहीं किया जिस कारण इंजन को भी कंपनी ने सीज कर दिया। ट्रेक्टर के ट्राली को अकीम खान, अजय चैबे, जावेद खान, राकेश सिंह ने अम्बिकापुर के हरजीत सिंह सचदेवा के माध्यम से बिक्री कर दिया गया की रिपोर्ट पर थाना प्रेमनगर में अपराध क्रमांक 88/17 धारा 406, 408, 420, 34 भादवि का अपराध पंजीबद्व किया गया। जांच विवेचना उपरान्त अजय चैबे, अकीन खान व जावेद खान को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा गया था। प्रकरण में 02 आरोपी करीब 2 वर्षो से फरार थे जिनके गिरफ्तारी हेतु लगातार प्रयास किए जा रहे थे।
पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री राजेश कुकरेजा के द्वारा विगत दिनों जिले के थाना प्रभारियों की बैठक लेकर धारा 173(8) जा.फौ. के फरार आरोपियों की पतासाजी, उनके रहने के हरसंभव ठिकानों पर दबिश देकर पकड़ने के निर्देश दिए थे।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर व एसडीओपी प्रेमनगर प्रकाश सोनी के मार्गदर्शन प्रेमनगर पुलिस टीम के द्वारा मुखबीर की सूचना पर मामले में 2 वर्षो से फरार चल रहे आरोपी हरजीत सिंह सचदेवा व राकेश कुमार सिंह को 14 नवम्बर 2019 को विधिवत् गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय में पेश किया गया।
इस कार्यवाही में थाना प्रभारी प्रेमनगर ओ.पी.कुजूर, चौकी प्रभारी तारा राजेश तिवारी, आरक्षक युवराज यादव, राकेश सिंह, विजय साहू, चंद्रकांत बिजनेर, भुनेश्वर सिंह एवं तुफान सिंह सक्रिय रहे।

उधार के पैसों के विवाद पर हुई थी हत्या, 01 आरोपी गिरफ्तार, प्रतापपुर पुलिस की कार्यवाही..........

सूरजपुर। गत् 11 सितम्बर 2019 को ग्राम केंवरा थाना प्रतापपुर निवासी सोनामति यादव ने थाना प्रतापपुर में रिपोर्ट दर्ज कराया कि इसका पति जगरोपन यादव गांव तरफ से घुमकर आता हॅू, खाना बनाकर रखना कहकर निकला था जो घर वापस नहीं आया। आस-पड़ोस में पता करने के दौरान इसके पति का चप्पल एवं तम्बाखू का डब्बा तालाब के पास दिखा तो इसने हल्ला-गुल्ला करने लगी जिस पर गांव वालों के सहयोग से इसके पति को तालाब से बाहर निकाला गया। जगरोपन के मुंह एवं नाक से काफी मात्रा में खून जैसा द्रव्य बाहर निकल रहा था। प्रार्थिया की रिपोर्ट पर थाना प्रतापपुर में मर्ग क्रमांक 70/19 धारा 174 जा.फा.ै कायम कर मर्ग जांच पंचनामा कार्यवाही में लिया गया। विगत 02 माह से लगातार संदेही एवं गवाहों से पूछताछ की जा रही थी, किन्तु मृतक की मौत के संबंध में कोई सुराग नहीं मिल रहा था।
मर्ग सदर की संदेहास्पद परिस्थिति को देखते हुये पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री राजेश कुकरेजा ने मर्ग जांच के गवाहों के कथनों को बारीकी से जोड़कर एवं परिस्थितिजन्य साक्ष्य के आधार पर जांच करने के निर्देश प्रतापपुर पुलिस को दिए थे।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर व एसडीओपी प्रतापपुर राकेश पाटनवार के मार्गदर्शन में प्रतापपुर की पुलिस के द्वारा मर्ग सदर के गवाहों के कथनों एवं परिस्थितिजन्य साक्ष्य के आधार पर बुधराम गोंड़ पर संदेह होने से हिरासत में लेकर बारीकी से पूछताछ करने पर बुधराम गोंड़ पिता गेदा गोंड़ उम्र 45 वर्ष साकिन केंवरा पण्डोपारा के द्वारा जगमोहन को उधार में समूह का पैसा 500 रूपये दिया था जिसे मांगने की पर नहीं देने की बात पर झगड़ा-विवाद होने से आरोपी द्वारा जगरोपन के गर्दन को पकड़कर तालाब के पानी में सिर को डुबाकर हत्या कर देना स्वीकार किया। मर्ग जांच पर हत्या का अपराध घटित होना पाये जाने से अपराध क्रमांक 172/19 धारा 302 भादवि का अपराध कायम कर आरोपी बुधराम गोंड को विधिवत् गिरफ्तार कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा गया है।
कार्यवाही एसडीओपी प्रतापपुर राकेश पाटनवार के नेतृत्व में हुई जिसमें थाना प्रभारी प्रतापपुर के.पी.चैहान, प्रधान आरक्षक संतोष सिंह, कृष्ण कुमार सिंह, आरक्षक प्रवीण सिंह, विकास सोनी, निरंजन एक्का व भागवत दयाल पैंकरा सक्रिय रहे।

बाल दिवस पर स्कूल पहुंच पुलिस ने बच्चों को दी कई जानकारियां........



 लगन से पढ़ाई करने तथा अच्छे कार्यो के लिए किया प्रोत्साहित

सूरजपुर। डीएव्ही पब्लिक स्कूल भटगांव में गुरूवार 14 नवम्बर को बाल दिवस मनाया गया। जहां स्कूल प्रबंधन के द्वारा कई कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान भटगांव की पुलिस भी बच्चों के बीच मौजूद रही और बच्चों को लगन के साथ पढ़ाई करने व अच्छे कार्यो के लिए प्रोत्साहित कर कई जानकारियों से अवगत कराया। कार्यक्रम में देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के छायाचित पर मार्लापण एवं दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरूवात की गई।
पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री राजेश कुकरेजा ने बाल दिवस के अवसर पर पुलिस के अधिकारियों को स्कूली बच्चों के बीच जाकर कुछ समय बिताने सहित महत्वपूर्ण जानकारियों से अवगत कराने का निर्देश दिया था।
इसी परिपेक्ष्य में थाना भटगांव की पुलिस स्कूली पहुंची। थाना प्रभारी भटगांव किशोर केंवट ने बच्चों को संबोधित कर कहा कि प्रत्येक 14 नवम्बर को भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है। उन्होंने बाल दिवस मनाए जाने के पीछे का उद्देश्य देश के भविष्य के निर्माण में बच्चों के महत्व को बताता है साथ ही पुलिस के कार्यो की जानकारी से बच्चों को अवगत कराया। थाना प्रभारी ने स्कूली बच्चों को कहा कि आगामी दिनों में उन्हें थाना का भ्रमण कराया जाएगा।
एसआई आराधना बनोदे ने स्कूली बच्चों को बताया कि आपको हमेशा अपराध एवं अपराधो की रोकथाम के प्रति जागरूक रहना चाहिए, जिस चीज को हम दूसरों को करने के लिए बोलते है पहले अपने में आत्मसात करें फिर हम दूसरों को करने बोलें। कहने से ज्यादा करने पर विश्वास करें और अपने सपनों को साकार करने का सार्थक प्रयास करें। उन्होंने सड़क दुर्घटना के समय जीवन बचाने में हेलमेट पहनने के महत्वपूर्ण योगदान के बारे में बताया तथा अपना मोबाइल नंबर देकर किसी प्रकार की सूचना देने की अपील की। स्कूली बच्चों को यातायात नियम, सायबर क्राईम, चिटफंड, एटीएम फ्राड, फर्जी बैंक के काल, पाक्सो एक्ट, जे.जे.एक्ट, बच्चों एवं महिलाओं से संबंधित अपराध के संबंध में जानकारी दी।
इस दौरान स्कूल के प्राचार्य, शिक्षकगण, थाना भटगांव के पुलिस अधिकारी-कर्मचारी सहित स्कूली बच्चें मौजूद रहे।

बुधवार, 13 नवंबर 2019

पुलिस अधीक्षक ने फरार आरोपियों की जल्द गिरफ्तार करने दिया था निर्देश.........

नकबजनी के मामले में 2 वर्षो से फरार 4 आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

रामानुजनगर पुलिस की कार्यवाही

सूरजपुर: गत् 25.05.2017 को ग्राम गणेशपुर निवासी संतोष कुमार सिंह ने थाना रामानुजनगर में रिपोर्ट दर्ज कराया बीएसएनएल कंपनी का मोबाईल टावर से अज्ञात चारों द्वारा 48 नग बैट्री कीमत 2 लाख रूपये का चोरी कर ले गए थे कि रिपोर्ट पर रामानुजनगर पुलिस ने अपराध क्रमांक 100/17 धारा 457, 380 भादवि के तहत् अपराध पंजीबद्व कर विवेचना में लिया। विवेचना के दौरान आरोपी ग्राम दर्रीटोला, थाना कोतमा निवासी सत्य नारायण सोनी उर्फ झल्लू, ग्राम रेकला थाना कोतमा निवासी दारा सिंह एवं ग्राम बसखली, थाना कोतमा जिला अनूपपुर मध्यप्रदेश निवासी समन सिंह को पूर्व में गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 48 नग बैट्री कीमत 2 लाख रूपये का बरामद कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा गया था। प्रकरण में 06 आरोपी जो घटना दिनांक से लगभग 2 वर्षो से फरार थे जिनके गिरफ्तारी हेतु लगातार प्रयास किए जा रहे थे।
पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री राजेश कुकरेजा के द्वारा विगत दिनों जिले के थाना प्रभारियों की बैठक लेकर धारा 173(8) जा.फौ. के फरार आरोपियों की पतासाजी कर जल्द गिरफ्तार करने का निर्देश दिए थे।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर व एसडीओपी प्रेमनगर प्रकाश सोनी के मार्गदर्शन में पुलिस टीम गठित कर मामले में फरार आरोपियों की गिरफ्तारी हेतु टीम को कोतमा जिला अनूपपुर मध्यप्रदेश रवाना किया गया था जो पुलिस टीम के द्वारा फरार आरोपी 1. लवकुश पटेल उर्फ मंजा पिता छोटेलाल पटेन निवासी दर्रीटोला, थाना कोतमा 2. प्रवीण सोनी पिता झल्लू उर्फ सत्यनारायण सोनी निवासी दर्रीटोला थाना कोतमा 3. किन्नू उर्फ कमरेन्द्र यादव पिता ठाकुर दास यादव निवासी लामाटोला, थाना कोतका 4. बंशी पटेल पिता कोमल पटेल निवासी लामाटोला थाना कोतमा जिला अनूपपुर मध्यप्रदेश को दिनांक 13/11/19 को गिरफ्तार किया गया जिन्हें माननीय न्यायालय के पेश किया जाएगा। मामले में अभी भी 2 आरोपी फरार है जिनकी पतासाजी पुलिस टीम द्वारा लगातार की जा रही है।
इसके पूर्व रामानुजनगर पुलिस के द्वारा चोरी, नकबजनी व हत्या के प्रयास के मामले में धारा 173(8) जा.फौ. के फरार 3 अन्य आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा जा चुका है।
इस कार्यवाही में थाना प्रभारी रामानुजनगर गोपाल धुर्वे, एएसआई हीरालाल साहू, प्रधान आरक्षक रविन्द्र भारती, लखेश साहू, आरक्षक अकरम मोहम्मद, संजय राजपूत, अमलेश्वर सिंह, गणेश सिंह, देवान सिंह, कमल आर्मो, फिरोज खान, संतोष ठाकुर व अत्यम्बर मरावी सक्रिय रहे।

सूरजपुर पुलिस ने अंतरराज्जीय गिरोह से पकड़ा लाखों के नशीली दवाईयों का जखीरा..........

 

25 लाख कीमत के नशीली दवाईयों सहित 05 गिरफ्तार। रंग ला रही पुलिस अधीक्षक की नशे के खिलाफ मुहीम

पुलिस अधीक्षक ने नशे को जड़ से समाप्त करने लिया है संकल्प। सफलता पर एसपी ने पूरी टीम को ईनाम देने की घोषणा

प्रेस क्लब व पत्रकार सुरक्षा समिति के जिलाध्यक्षों ने पुलिस अधीक्षक को किया सम्मानित

सूरजपुर। सूरजपुर पुलिस नशीली दवाईयों के विरूद्व लगातार कार्यवाही कर रही है जिसके तहत् सूरजपुर पुलिस टीम के द्वारा 25 लाख कीमत के नशीली दवाई, 01 मोटर सायकल सहित 5 लोगों को गिरफ्तार किया है। पूर्व में कई बार शहर के गणमान्य नागरिकों, पत्रकारों सहित जनप्रतिनिधियों द्वारा नशे के कारोबार में लिप्त बड़े व्यवसायियों के विरूद्व कार्यवाही करने की मांग की जा रही थी।

सूरजपुर जिले में पदस्थापना के बाद से ही पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री राजेश कुकरेजा ने नशीली दवाईयों के धंधे में लिप्त राज्जीय एवं अंतरराज्जीय लोगों के विरूद्व सख्त कार्यवाही करने हेतु थाना-चौकी प्रभारियों को निर्देशित किया था। इसी तारतम्य में गत् 11 नवम्बर 2019 को चौकी प्रभारी बसदेई सुनील सिंह को विष्वस्त मुखबीर से सूचना मिली कि माड़ा मध्यप्रदेश से पटना जिला कोरिया निवासी गंगा प्रसाद साहू अपने 02 साथी राजेन्द्र गोड़ एवं पारस गोंड़ के साथ मोटर सायकल क्रमांक सीजी 16 सीबी 6310 में अवैध रूप से नशीली दवाईयां लेकर आ रहे है। जिसकी जानकारी से चौकी प्रभारी ने पुलिस अधीक्षक को अवगत कराया जिस पर उन्होंने तत्काल कार्यवाही करने के निर्देश दिए।

पुलिस अधीक्षक के मार्गदर्शन में मुखबीर के बताए अनुसार बसदेई पुलिस की टीम ने ग्राम कुसमुसी के पास घेराबंदी किया और 4 घंटे के लम्बे इंतजार के बाद ओड़गी की ओर से एक मोटर सायकल आते दिखा जिसे रोकवाने पर मोटर सायकल के चालक ने वाहन को तेज गति से चलाकर भागने लगे जिसे पुलिस टीम ने पीछाकर घेराबंदी कर पकड़ा। वाहन में सवार तीनों से नाम पता पूछने पर अपना-अपना नाम 1. गंगा प्रसाद साहू पिता उदय भान साहू उम्र 36 वर्ष ग्राम रनई, थाना पटना, जिला कोरिया 2. राजेन्द्र गोंड़ पिता कामेष्वर सिंह उम्र 27 वर्ष निवासी ग्राम चम्पाझर, थाना पटना जिला कोरिया 3. पारस गोंड़ पिता जगदीष गोंड़ उम्र 22 वर्ष निवासी ग्राम चम्पाझर, थाना पटना जिला कोरिया को होना बताए। पुलिस टीम ने एनडीपीएस एक्ट के प्रावधानों का विधिवत् पालन करते हुए तलाशी लिए जाने पर तीनों के कब्जे से एक जूट के बोरा में ओनरेक्स कफ सिरप 95 नग, एविल इंजेक्शन 136 नग, सिंप्लेक्स सी प्लस कैप्सूल 1728 नग, पाइवोन स्पास प्लस कैप्सूल 1536 नग, अल्प्राजोलम टेबलेट 600 नग, स्पास ट्रानकन प्लस कैप्सूल 144 नग एवं रेक्सोजैसिक इंजेक्शन 40 नग जप्त कर तीनों व्यक्तियों को हिरासत में लिया गया।

नशीली दवाईयां के संबंध में आरोपियों से पूछताछ करने पर उनके द्वारा उक्त नशीली दवाईयों को माड़ा मध्यप्रदेश के शिवम मेडिकल के संचालक मिथलेश शाह से खरीदना बताया और यह भी बताया कि मेडिकल संचालक मिथलेश शाह भारी मात्रा में अवैध नशीली दवाईयों का भण्डारण अपने मेडिकल स्टोर में करके रखता है जिससे कई बार नशीली दवाईयां खरीदकर उसे जिला कोरिया के पटना तथा आसपास के क्षेत्रों में नशेड़ी प्रवृत्ति के लोगों को ऊंची कीमत पर बेचते थे।

नशे की सामग्री दिगर राज्य से लाकर क्षेत्र में खपाने, युवा वर्ग को इसकी लत में बचाने तथा इस कारोबार को जड़ से उखाड़ फेंकने की मुहिम के तहत् पुलिस अधीक्षक ने जिले की पुलिस टीम को कार्यवाही हेतु माड़ा मध्यप्रदेश भेजने की रणनीति बनाई और टीम को दिगर राज्य भेजने हेतु पुलिस महानिरीक्षक सरगुजा रेंज श्री के.सी.अग्रवाल* से अनुमति प्राप्त किया।

मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक ने एसडीओपी ओड़गी मंजूलता बाज के नेतृत्व में एसआई अजहरूद्दीन, चौकी प्रभारी बसदेई सुनील सिंह सहित अन्य पुलिस कर्मचारियों की टीम गठित कर तत्काल माड़ा मध्यप्रदेश रवाना कर जिले की पुलिस टीम को सहयोग प्रदान करने हेतु सिंगरौली मध्यप्रदेश के पुलिस अधीक्षक श्री अभिजीत सिंह रंजन से दूरभाष पर चर्चा की।

पुलिस अधीक्षक के मार्गदर्शन में सूरजपुर की पुलिस टीम माड़ा जिला सिंगरौली मध्यप्रदेश पहुंची और थाना प्रभारी माड़ा अभिमन्यु द्विवेदी की टीम के साथ माड़ा स्थित शिवम मेडिकल स्टोर पहुंचकर रेड़ कार्यवाही की गई। पुलिस ने मेडिकल संचालक मिथलेश शाह एवं उसके कर्मचारी बोलबम शाह के कब्जे से अल्प्रोकेन टेबलेट 30 हजार 2 सौ नग, सिंटलेक्स सी प्लस कैप्सूल 11 हजार 2 सौ नग, ट्रीडोल 50 कैप्सूल 3 हजार 3 सौ नग, लेबोरेट इंजेक्शन 40 नग स्पास ट्रानकन प्लस कैप्सूल 4 हजार 7 सौ 52 नग, एविल इंजेक्शन 750 नग जप्त की गई। पुलिस के द्वारा दोनों स्थानों से जप्त की गई नशीली दवाईयों की बाजारू कीमत करीब 25 लाख रूपये है। मामले में पुलिस ने एनडीपीएस एक्ट के तहत् कार्यवाही करते हुए पांचों आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

भारी मात्रा में जप्त की गई नशीली दवाईयों के संबंध में आरोपी मिथलेश शाह से पूछताछ की गई जो उसने बताया कि नशीली दवाईयों को कम कीमत पर बड़े शहरों सागर, कटनी व रीवां से लाकर अपने मेडिकल स्टोर में बेचने हेतु रखता था और ज्यादा पैसा कमाने के नियत से अवैध नशीली दवाई को छत्तीसगढ़ के छोटे व्यापारियों को ही ऊंचे दर पर बिक्री कर लाभ अर्जित करता था।

मेडिकल स्टोर संचालक अब तक केवल छत्तीसगढ़ के व्यापारियों को ही अवैध नशीली दवाईयों को बिक्री करता था साथ ही वह मेडिकल स्टोर की आड़ में नशे का कारोबार कर पुलिस से बचता रहा। जिसकी सूचना पुलिस अधीक्षक को मिलने पर उन्होंने पहली बार दिगर राज्य पुलिस टीम को भेजने की रणनीति बनाई। यह पहला मामला है कि सूरजपुर की पुलिस मध्यप्रदेश में जाकर नशे के कारोबार करने वाले मेडिकल स्टोर में रेड़ कार्यवाही कर भारी मात्रा में नशीली दवाईयों को बरामद किया है।

मध्यप्रदेश के माड़ा कस्बे में सूरजपुर पुलिस के द्वारा अवैध नशीली दवाईयां पर कार्यवाही करते देख अन्य मेडिकल स्टोर संचालकों में खलबली मची हुई है तथा वहां के आमजनों के द्वारा दूसरे राज्य से आकर कार्यवाही करता देख सूरजपुर पुलिस की प्रशंसा की गई।

इन नशीली दवाओं को पुलिस ने किया जप्त।

पुलिस ने 22660 नग कैप्सूल, 30800 नग टेबलेट, 966 नग इंजेक्शन एवं 95 नग कफ सिरप कुल 54 हजार 5 सौ 21 नग नशीली दवाईयां जप्त किया है जिनमें ओनरेक्स कफ सिरप 95 नग, एविल इंजेक्शन 886 नग, रेक्सोजैसिक इंजेक्शन 40 नग, लेबोरेट इंजेक्शन 40 नग, ट्रीडोल 50 कैप्सूल 3300 नग, सिंप्लेक्स सी प्लस कैप्सूल 12928 नग, पाइवोन स्पास प्लस कैप्सूल 1536 नग, स्पास ट्रानकन प्लस कैप्सूल 4896 नग, अल्प्राजोलम टेबलेट 600 नग एवं अल्प्रोकेन टेबलेट 30200 नग है जिसकी बाजारू कीमत करीब 25 लाख रूपये है।

मेडिकल स्टोर संचालक के द्वारा जिन बड़े शहरों के संस्थानों से नशीली दवाईयों को लाया जाता है उन संस्थानों के विरूद्व पृथक से उचित कार्यवाही की जाएगी। पुलिस ने इन नशीली दवा कंपनी के विरूद्व उचित कार्यवाही व नियंत्रण हेतु राज्य एवं केन्द्र सरकार को पत्राचार किया जा रहा है कि इनके वितरण में पर्याप्त नियंत्रण रखी जावे, प्रतिबंधित दवा शहरी दुकानों में भेजे जाने के बाद वह छोटे-छोटे कस्बे के दुकानों में चली जाती है।

बसदेई, विश्रामपुर व खड़गवां पुलिस ने इसके पूर्व नशे के विरूद्व 14 मामले में 31 लोगों पर कर चुकी है कार्यवाही।

पुलिस अधीक्षक सूरजपुर के द्वारा नशे के विरूद्व चलाए जा रहे अभियान के तहत् बसदेई पुलिस के द्वारा एक और बड़ी सफलता हासिल करते हुए अन्र्तराज्जीय गिरोह का पर्दाफाश कर नशे की कड़ी को तोड़ी है। इसके पूर्व भी बसदेई पुलिस ने वर्ष 2019 में 7 अलग-अलग प्रकरणों में 13 लोगों से करीब 81 हजार रूपये कीमत के अवैध मादक पदार्थ गांजा एवं करीब 9 लाख रूपये कीमत, विश्रामपुर पुलिस ने 6 अलग-अलग मामलों में 16 लोगों से करीब 5 लाख 40 हजार रूपये के नशीली दवाईयों एवं खड़गवां पुलिस के द्वारा 12 नवम्बर 2019 को 2 लोगों से 5 लाख रूपये कीमत के नशीली कफ सिरप बरामद कर आरोपियों को जेल भेजा है।

प्रेस क्लब व पत्रकार सुरक्षा समिति के जिलाध्यक्षों ने पुलिस अधीक्षक को किया सम्मानित।

दिगर राज्य जाकर नशे के विरूद्व सूरजपुर पुलिस के द्वारा अब तक की सबसे बड़ी कार्यवाही किए जाने पर सूरजपुर प्रेस क्लब एवं पत्रकार सुरक्षा समिति के जिलाध्यक्षों ने पुलिस अधीक्षक श्री राजेश कुकरेजा को सम्मानित किया है।

सफलता पर एसपी ने पूरी टीम को ईनाम देने की घोषणा।

बसदेई पुलिस की इस सफलता पर पुलिस अधीक्षक ने पूरी टीम को नगद ईनाम देने की घोषणा की है साथ ही पुलिस महानिदेशक छत्तीसगढ़ द्वारा चलाए जा रहे इन्द्रधनुष योजना में पूरी पुलिस टीम को पुरस्कृत करने हेतु अनुशंसा की गई है। कार्यवाही में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर व सीएसपी जे.पी.भारतेन्दु का भी योगदान रहा।

कार्यवाही एसडीओपी ओड़गी मंजूलता बाज के नेतृत्व में हुई जिसमें एसआई अजहरूद्दीन, चौकी प्रभारी बसदेई सुनील सिंह, प्रधान आरक्षक मनोज पोर्ते, हंसराम कनेडिया, आरक्षक अमरेन्द्र दुबे, जितेन्द्र पटेल, देवदत्त दुबे, महेन्द्र प्रताप सिंह, प्रदीप साहू, महेन्द्र यादव, थामस मिंज, जयप्रकाष सिंह, रामनारायण सोनवानी, राकेश बंजारे, मोहन रजक, प्रदीप जायसवाल, महिला नगर सैनिक रीमा गुप्ता सक्रिय रहे।

मंगलवार, 12 नवंबर 2019

सीएसपी कार्यालय बैरक निर्माण का आईजी ने किया भूमिपूजन.................

सूरजपुर। पुलिस महानिरीक्षक सरगुजा रेंज, सरगुजा श्री के.सी.अग्रवाल ने सूरजपुर के बाईपास जेलपारा स्थित आबंटित भूमि पर नगर पुलिस अधीक्षक कार्यालय बैरक निर्माण का भूमि पूजन मंगलवार 12 नवम्बर किया। इस दौरान कलेक्टर सूरजपुर श्री दीपक सोनी व पुलिस अधीक्षक श्री राजेश कुकरेजा मौजूद रहे। पुलिस महानिरीक्षक ने विधि विधान से पूर्चा अर्चना कर निर्माण कार्य का भूमि पूजन किया। पीसीएण्डआर मद अन्तर्गत 19 लाख 50 हजार रूपये की लागत से यह निर्माण किया जाएगा।
इस दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर, एएसपी मुख्यालय पी.एस.महिलाने, सीएसपी जे.पी.भारतेन्दु, एसडीओपी प्रेमनगर प्रकाश सोनी, सेनानी होमगार्ड बिपिन लकड़ा, तहसीलदार नंदजी पाण्डेय, थाना प्रभारी सूरजपुर विकेश तिवारी सहित पुलिस व प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारीगण उपस्थित रहे ।

सूरजपुर पुलिस को मिली बड़ी सफलता, 5 लाख कीमत के नशीली कफ सिरप के साथ 2 गिरफ्तार..........



बनारस से लाकर करंजवार में छिपाकर रखी गई थी 1190 नग नशीली कफ सिरप

प्रतापपुर व खड़गवां पुलिस की संयुक्त कार्यवाही

सूरजपुर। सूरजपुर पुलिस के द्वारा नशीली दवाईयों के विरूद्व लगातार कार्यवाही जारी है जिसके तहत् प्रतापपुर व खड़गवां की संयुक्त पुलिस टीम के द्वारा ग्राम करंजवार में छिपाकर रखी गई 1190 नग नशीली कफ सिरप जिसकी बाजारू कीमत करीब 5 लाख रूपये है एवं परिवहन में प्रयुक्त 2 मोटर सायकल सहित 2 लोगों को गिरफ्तार किया है।
जिले में पदस्थापना के बाद से ही पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री राजेश कुकरेजा ने नशीली दवाईयों के धंधे में लिप्त लोगों के विरूद्व सख्त कार्यवाही करने हेतु थाना-चौकी प्रभारियों को निर्देशित किया था। इसी तारतम्य 12 नवम्बर 2019 को चौकी प्रभारी खड़गवां सरफराज फिरदौसी को मुखबीर से सूचना मिली कि ग्राम खोरमा-करंजवार मेन रोड़ के किनारे खेत में अवैध नशीली दवाई छिपाकर रखी गई है एवं उसे बेचने के लिए ले जाने वाले है। जिसकी जानकारी से चैकी प्रभारी ने पुलिस अधीक्षक को अवगत कराया जिस पर उन्होंने तत्काल प्रतापपुर व खड़गवां पुलिस की टीम को रेड कार्यवाही करने के निर्देश दिए।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर व एसडीओपी प्रतापपुर राकेश पाटनवार के मार्गदर्शन में प्रतापपुर व खड़गवां की संयुक्त पुलिस टीम के द्वारा मुखबीर के बताए स्थान पर घेराबंदी कर रेड़ कार्यवाही किया। नशीली दवाईयों के तस्कर रेड कार्यवाही के दौरान पुलिस को देखकर भागने लगे जिन्हें पुलिस टीम ने दौड़ाकर घेराबंदी कर पकड़ा। पकड़े गए दोनों व्यक्तियों से पूछताछ करने पर वे अपना नाम बाजारपारा, थाना प्रतापपुर निवासी 30 वर्षीय मुज्जफर पिता मोहम्मद जफ्फर हुसैन एवं वार्ड क्रमांक 2 कदमपारा चौक, थाना प्रतापपुर निवासी 32 वर्षीय मुकेश अग्रवाल उर्फ अक्कू पिता स्व. गीगाराज अग्रवाल का होना बताए। पुलिस टीम ने दोनों के कब्जे से अलग-अलग 230 नग ओनरेक्स एवं 960 नग फैन्सीरेक्स कुल 1190 नग कफ जिसकी बाजारू कीमत 5 लाख रूपये एवं परिवहन में उपयोग किए जाने वाले 2 नग मोटर सायकल जप्त कर धारा 21सी एनडीपीएस एक्ट के तहत् अपराध पंजीबद्व कर दोनों को विधिवत् गिरफ्तार किया गया।
पूछताछ पर आरोपियों ने बताया कि विगत् कई वर्षो से नशीली दवाई कफ सिरप स्वयं भी उपयोग करते थे नशीली दवाई को बनारस से सस्ते दामों पर बस के माध्यम से बड़ी खेप लाना बताए। इन नशीली दवाईयों को क्षेत्र के नशेड़ी प्रवृत्ति के लोगों को वास्तविक कीमत से कई गुना अधिक दर पर बेचकर लाभ अर्जित करना बताए।
इस कार्यवाही में थाना प्रभारी प्रतापपुर के.पी.चैहान, चौकी प्रभारी खड़गवां सरफराज फिरदौसी, प्रधान आरक्षक दिनेश ठाकुर, श्याम सिंह, दिनेश मिंज, रविशंकर किण्डो, शैलेश सिंह, विकास सोनी, भागवत दयाल पैंकरा व प्रवीण सिंह सक्रिय रहे।

रविवार, 10 नवंबर 2019

साम्प्रदायिक सौहार्द व कानून व्यवस्था बनाए रखने पुलिस व प्रशासन ने ली शांति समिति की बैठक............


गणमान्य नागरिकों ने पुलिस व प्रशासन का हरसंभव सहयोग करने दिया आश्वासन।

जिले में लागू हुई धारा 144

सूरजपुर। अयोध्या को लेकर माननीय सुप्रीम कोर्ट के फैसला आने एवं रविवार को ईद उल मिलादुन्नबी त्यौहार के मद्देनजर सूरजपुर कलेक्टर श्री दीपक सोनी व पुलिस अधीक्षक श्री राजेश कुकरेजा ने शनिवार 09 नवम्बर के शाम को कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में शांति समिति की बैठक आयोजित किया इस बैठक में नगर के गणमान्य नागरिकगण, पत्रकार, जनप्रतिनिधि एवं पुलिस के अधिकारीगण मौजूद रहे।
शांति समिति की बैठक में कलेक्टर सूरजपुर श्री दीपक सोनी ने साम्प्रदायिक सौहार्द एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने हेतु सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वाले संदेशों से सावधान रहकर इन संदेशों को बिना सोचे-समझे फारवर्ड नहीं करने, जिले में धारा 144 लागू किए जाने की जानकारी देते हुए कहा कि किसी भी कार्यक्रम के आयोजन के पूर्व एवं ध्वनि विस्तार यंत्रों के उपयोग से पहले एसडीएम से अनुमति प्राप्त कर ले। मिलादुन्नबी के जुलूस में डीजे बजाने पर प्रतिबंध के साथ ही आयोजकों से इसमें सहयोग करने की अपील की है। उन्होंने किसी भी प्रकार के अस्त्र-शस्त्र का प्रदर्शन न करने को कहा है।
बैठक में पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री राजेश कुकरेजा ने साम्प्रदायिक सौहार्द व कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए सोशल मीडिया का सावधानी पूर्वक इस्तेमाल करने, वाटसएप गु्रप को एडमिन मोड पर सेटिंग करने ताकि कोई आपत्तिजनक मैसेज वायरल न हो, जिले में धारा 144 लागू है जिसके मद्देनजर किसी भी आयोजन के पूर्व विधिवत् अनुमति लेने हेतु कहा। मिलादुन्नबी त्यौहार परंपरागत सद्भाव एवं भाईचारे के साथ उल्लासपूर्वक मनाने की अपील की। बैठक में पुलिस अधीक्षक ने असामाजिक तत्वों की सूचना तुरंत पुलिस तक पहुंचाने हेतु कहा ताकि पुलिस त्वरित वैधानिक कार्यवाही कर सके। जवानों को हर विपरीत परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार कर तैनात किया गया है, जिले के पुलिस राजपत्रित अधिकारी व थाना-चौकी प्रभारियों को लगातार पेट्रोलिंग व गश्त करने के निर्देश दिए गए है। सोशल मीडिया के माध्यम से अफवाह फैलाने वालों पर सख्त कानूनी कार्यवाही की जाएगी।
बैठक में गणमान्य नागरिकों से सुझाव आमंत्रित किए जाने पर उन्होंने प्रशासन व पुलिस को हरसंभव सहयोग करने का आश्वासन दिया।
बैठक में जिला प्रशासन व पुलिस के अधिकारीगण, थाना-चौकी प्रभारीगण, जनप्रतिनिधिगण, पत्रकार व काफी संख्या में गणमान्य नागरिकगण उपस्थित रहे।

गुरुवार, 7 नवंबर 2019

7 वर्षो से धोखाधड़ी के मामले में फरार आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार.........

सूरजपुर। 24 अगस्त को ग्राम केते, चौकी तारा निवासी भजन राम ने रिपोर्ट दर्ज कराया कि उदयपुर निवासी भजन राम व अन्य 4 व्यक्तियों ने इसे डेढ एकड़ जमीन दिलाने के नाम पर इससे धोखाधड़ी कर 20 लाख 10 हजार रूपये ले लिए और दूसरा जमीन दिखाकर किसी और जमीन का रजिस्ट्री करा रहे है जिसकी रिपोर्ट पर पुलिस धारा 420, 34 भा.दं.स. का अपराध पंजीबद्व कर विवेचना में लिया गया। प्रकरण के अन्य 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर चालान माननीय न्यायालय में पेश किया गया था। प्रकरण में आरोपी भजन पिता स्व. लक्ष्मण यादव जाति अहीर उम्र 27 वर्ष ग्राम झिरमिट्टी, थाना उदयपुर, जिला सरगुजा घटना के बाद से ही सन् 2012 से फरार था जिस पर पुलिस धारा 173(8) जा.फौ. के तहत् जांच कर रही थी।
विगत दिनों पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री राजेश कुकरेजा ने जिन मामलों में आरोपी फरार है उन्हें उन मामलों को बारीकी से जांच करते हुए फरार आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करने के निर्देश दिए थे। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर व एसडीओपी प्रेमनगर प्रकाश सोनी के मार्गदर्शन में मुखबीर की सूचना पर थाना प्रेमनगर व चौकी तारा की संयुक्त पुलिस टीम के द्वारा 7 अक्टूबर को मामले के फरार आरोपी भजन यादव को ग्राम झिरमिट्टी, थाना उदयपुर में घेराबंदी कर पकड़ा और विधिवत् गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया।
इस कार्यवाही में थाना प्रभारी प्रेमनगर ओ.पी.कुजूर, चौकी प्रभारी तारा राजेश तिवारी, आरक्षक राकेश पोर्ते, सोहर लाल पावले, सुरेन्द्र सिंह व अमर सिंह सक्रिय रहे।