गुरुवार, 21 फ़रवरी 2019

कन्या स्कूल सूरजपुर के चयनित स्टूडेंट पुलिस कैडेट को पुलिस ने दिया प्रशिक्षण व जानकारी




सूरजपुर ।भारत सरकार, गृह मंत्रालय की स्टूडेंट पुलिस कैडेट कार्यक्रम स्कूल आधारित युवाओं के विकास के लिए तैयार की गई है। योजना के कुशल क्रियान्वयन, निगरानी हेतु कलेक्टर को अध्यक्ष एवं पुलिस अधीक्षक, जिला शिक्षा अधिकारी को सदस्य नियुक्त किया गया है। पुलिस मुख्यालय रायपुर के निर्देश पर जिले में स्टूडेंट पुलिस कैडेट के संचालन हेतु 5 स्कूलों के छात्र/छात्राओं का चयन करते हुये इसके नोडल अधिकारी सीएसपी डी.के.सिंह को बनाया गया है। इन कैडेटों को छात्र/छात्राओं को पुलिस की भूमिका और कार्यों के बारे में अवगत कराना, अपराधों की रोकथाम और नियंत्रण, उन्हें यह बताना कि पुलिस उनकी दोस्त है, कैटेड को इनडोर व आउटडोर प्रशिक्षण देकर इन्हें संवेदनशील व जिम्मेदार बनाना है ताकि वे अपराध नियंत्रण व शांति व्यवस्था बनाए रखने में पुलिस की मदद कर सके।
स्टूडेंट पुलिस कैडेट के गठन के बाद उन्हें इनडोर व आउटडोर का प्रशिक्षण व जानकारी देने के निर्देश पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री जी.एस.जायसवाल के द्वारा नोडल अधिकारी सीएसपी डी.के.सिंह को दिया गया था। 
निर्देश के परिपालन में गुरूवार 21 फरवरी को सीएसपी डी.के.सिंह के द्वारा शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के चयनित कैडेट को स्टूडेंट पुलिस कैडेक के कार्याे एवं पुलिस क्यों आवश्यक है इसकी विस्तार पूर्वक जानकारी दी। इस अवसर पर सीएसपी डी.के.सिंह ने कहा कि पुलिस वह एजेंसी है जो कानून के शासन को लागू करती है और सार्वजनिक व्यवस्था बनाए रखती है। पुलिस का सबसे महत्वपूर्ण कार्य अपराध को रोकना, अपराध का पता लगाना और उसकी जांच करना है। नागरिकों के अधिकार, उनकी स्वतंत्रता, व्यक्तिगत् गरिमा को बनाए रखना तथा सार्वजनिक व्यवस्था यातायात का सुचारू संचालन भी पुलिस का एक महत्वपूर्ण कर्तव्य है। उन्होंने सुुव्यवस्थित एवं दुर्घटनारहित यातायात के लिए आवश्यक है कि वाहन के उपयोग करने वाले एवं सड़क पर चलने वाले प्रत्येक नागरिक को यातायात के नियमों की पूर्ण जानकारी हो, छात्राओं को अनुशासन में रहकर लक्ष्य की दिशा में बढ़ने, महिलाओं एवं बच्चों की सुरक्षा की जानकारी दी। ज्ञानवर्धक जानकारियों को डायरी में नोट कर रखने हेतु कहा। सीएसपी श्री सिंह ने स्कूली छात्राओं को पुलिस अधीक्षक, एएसपी, पुलिस कंट्रोल रूम, थाना प्रभारी एवं अपना मोबाईल नंबर की जानकारी नोट कराया और कहा कि किसी विषम परिस्थिति, अपराध, घटना अथवा दुर्घटना की सूचना हमें दें पुलिस आपकी सुरक्षा हेतु तत्पर है।
शिक्षक सबाबे हुसैन के द्वारा स्टूडेंट पुलिस कैटेड के बार में जानकारी देते हुए कहा कि यातायात नियमों का पालन करने से लोग दुर्घटना के शिकार होने से बच सकते है, छात्राओं को बेहतर अनुशासन में रहने, बाहरी लोगों के गांव-मोहल्ले में आने पर उसकी सूचना पुलिस को देने हेतु कहा।
इस दौरान थाना प्रभारी सूरजपुर ए.टोप्पो, स्कूल के प्राचार्य अन्नू काण्डे, शिक्षक अरूण चौबे, संध्या दुबे, राजू लोचन मिश्रा, आर.बी.यादव, दीपक पटेल, अरूण कुशवाहा, सबाबे हुसैन, अनुराघ सिंह बघेल, अमोन टोप्पो, टीसी राम, सुनील पाण्डेय सहित स्टूडेंट पुलिस कैडेट की छात्राए उपस्थित रहे।

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3
सायबर की पाठशाला में आज तीसरे पाठ में हम समझने की कोशिश कर रहे हैं कि एक सुरक्षित लिंक कैसा दिखता या होता है। धोखेबाज/अपराधी आम लोगों को ठगने के लिए बैंको के नाम से मिलते जुलते नाम या अक्षरों का प्रयोग करके एक यूआरएल/URL बनाता है और उसे मोबाइल पर सीधे मैसेज के रूप में भेजता है इन लिंकनुमा URL पर क्लिक करते ही आप ठगी के शिकार हो जाते हैं। यदि लिंक में anydesk, mingle, teamviewer जैसे शब्द हैं तो आपके फोन को हैक करने का प्रयास हो रहा है, तुरंत मैसेज डिलिट करें। लिंक पर क्लिक बिलकुल न करें। अनजान से व्यक्तियों से फोन पर ज्यादा बात न करें और न ही उन्हें किसी भी तरह की जानकारी दें चाहे कुछ भी हो जाए। तभी आप ठगी से बच पाएंगे। इस तरह के फर्जीवाड़ों पर और विस्तार से जानकारी के लिए इस श्रृंखला पर नजर बनाए रखें। पिछले पाठों को फिर से जानने के लिए/ पुनरावलोकन के लिए तस्वीर पर क्लिक करें या ऊपर के संबंधित टैब (सायबर की पाठशाला) पर क्लिक करें।