गुरुवार, 9 जून 2022

नशे के कारोबार पर सूरजपुर पुलिस की लगातार कार्यवाही जारी। 334 नग नशीली कफ सिरप सहित 2 गिरफ्तार, थाना सूरजपुर पुलिस की कार्यवाही।

सूरजपुर। पुलिस अधीक्षक श्री रामकृष्ण साहू के निर्देश पर अवैध कारोबार में लिप्त लोगों के विरूद्ध लगातार कार्यवाही जारी है। इसी क्रम में दिनांक 08.06.2022 को थाना सूरजपुर पुलिस को मुखबीर से सूचना मिला कि कब्रिस्तान मोहल्ला सूरजपुर निवासी शाजिया बेगम अपने घर में भारी मात्रा में नशीली दवाई कफ सिरप विक्रय करने हेतु इकट्ठा करके रखी है जो बाहर बिक्री करने हेतु कही जाने वाली है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर व एसडीओपी सूरजपुर गीता वाघवानी के मार्गदर्शन में थाना सूरजपुर की पुलिस ने सूचना के आधार पर दबिश देते हुए शाजिया बेगम के कब्जे से अवैध नशीली कफ सिरप ई-स्कूफ कफ सिरप 98 नग, ऑनरेक्स कफ सिरप 236 नग कुल 334 नग नशीली कफ सिरप जप्त किया गया जिसकी बाजारू कीमत करीब 1 लाख 67 हजार रूपये है। पूछताछ पर आरोपी महिला ने बताया कि उक्त नशीली कफ सिरप को भैयाथान रोड़ सूरजपुर निवासी ललन जायसवाल के द्वारा अपने बोलेरो वाहन से लाकर दिनांक 07.06.2022 को बिक्री हेतु दिया था। प्रकरण में आरोपी ललन जायसवाल को सूरजपुर से घेराबंदी कर पकड़ा गया। मामले में नशीली कफ सिरप जप्त कर धारा 21 (सी) एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्यवाही करते हुए आरोपी शाजिया बेगम पति स्व. ईबराईल उम्र 29 वर्ष निवासी कब्रिस्तान मोहल्ला सूरजपुर एवं ललन जायसवाल पिता रामगोपाल जायसवाल उम्र 39 वर्ष निवासी भैयाथान रोड सूरजपुर को विधिवत् गिरफ्तार किया गया। इस कार्यवाही में थाना प्रभारी सूरजपुर प्रकाश राठौर, एसआई गजपति मिर्रे, एएसआई रघुवंश सिंह, प्रधान आरक्षक मोहम्मद तालिब शेख, अदीप प्रताप सिंह, जय प्रकाश तिवारी, महिला प्रधान आरक्षक कुसुमकांता, आरक्षक लक्ष्मी नारायण मिर्रे, रामकुमार नायक, राधेश्याम साहू, महिला आरक्षक चंदा भास्कर सक्रिय रहे। 

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3
सायबर की पाठशाला में आज तीसरे पाठ में हम समझने की कोशिश कर रहे हैं कि एक सुरक्षित लिंक कैसा दिखता या होता है। धोखेबाज/अपराधी आम लोगों को ठगने के लिए बैंको के नाम से मिलते जुलते नाम या अक्षरों का प्रयोग करके एक यूआरएल/URL बनाता है और उसे मोबाइल पर सीधे मैसेज के रूप में भेजता है इन लिंकनुमा URL पर क्लिक करते ही आप ठगी के शिकार हो जाते हैं। यदि लिंक में anydesk, mingle, teamviewer जैसे शब्द हैं तो आपके फोन को हैक करने का प्रयास हो रहा है, तुरंत मैसेज डिलिट करें। लिंक पर क्लिक बिलकुल न करें। अनजान से व्यक्तियों से फोन पर ज्यादा बात न करें और न ही उन्हें किसी भी तरह की जानकारी दें चाहे कुछ भी हो जाए। तभी आप ठगी से बच पाएंगे। इस तरह के फर्जीवाड़ों पर और विस्तार से जानकारी के लिए इस श्रृंखला पर नजर बनाए रखें। पिछले पाठों को फिर से जानने के लिए/ पुनरावलोकन के लिए तस्वीर पर क्लिक करें या ऊपर के संबंधित टैब (सायबर की पाठशाला) पर क्लिक करें।