बुधवार, 21 सितंबर 2022

सूरजपुर पुलिस ने पीएसीएल चिटफण्ड कंपनी के डायरेक्टर को किया गिरफ्तार

जिले के करीब 11 हजार निवेशकों से करीब 30 करोड़ रूपये का किया गया धोखाधड़ी

सूरजपुर। पुलिस महानिदेशक छत्तीसगढ़ श्री अशोक जुनेजा व पुलिस महानिरीक्षक सरगुजा रेंज श्री अजय कुमार यादव के द्वारा चिटफण्ड कंपनी के विरूद्ध लंबित मामलों के निराकरण में तेजी लाने एवं आरोपियों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए थे, इसी परिपेक्ष्य में पुलिस अधीक्षक श्री रामकृष्ण साहू के निर्देशन में थाना सूरजपुर पुलिस ने चिटफण्ड कंपनी के 1 डायरेक्टर को गिरफ्तार किया है। विगत वर्ष 2016 में ग्राम केतका, थाना सूरजपुर निवासी कमल सिंह केराम एवं ग्राम गंगोटी, चौकी बसदेई निवासी रनमेत बाई ने रिपोर्ट दर्ज कराया था कि आरोपी सुखदेव सिंह निवासी जलियाकलान थाना चमकौर साबेह जिला रोपड़ पंजाब एवं उसके अन्य साथियों के द्वारा पैसा दोगुना करने का प्रलोभन देकर रूपया जमा कराया गया जो मैच्यूरिटी अवधि पूर्ण होने पर भी पैसा वापस नहीं कर धोखाधड़ी किया गया। दोनों ही मामलों की रिपोर्ट पर थाना सूरजपुर में क्रमशः अपराध क्रमांक 96/16 व अपराध क्रमांक 182/16 धारा 420, 120बी भादसं., 4,5,6 ईनामी चिट और धन परिचालन अधिनियम 1978, छ.ग. निक्षेपकों के हितों की संरक्षण अधिनियम 2005 की धारा 10 पंजीबद्ध कर विवेचना की गई। पूर्व में इस कंपनी के डायरेक्टर निर्मल सिंह भंगू, त्रिलोचन सिंह व सुखदेव सिंह को गिरफ्तार किया जा चुका है। पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री रामकृष्ण साहू ने चिटफण्ड के प्रकरणों में फरार आरोपियों की पतासाजी कर गिरफ्तार करने पुलिस टीम को लगाया था। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मधुलिका सिंह व एसडीओपी सूरजपुर प्रकाश सोनी के मार्गदर्शन में मामले की विवेचना के दौरान जानकारी मिली कि पीएसीएल कंपनी का डायरेक्टर जोगेन्दर टाईगर वर्तमान में थाना कोतवाली जिला कर्वधा में पंजीबद्ध मामले में गिरफ्तार होकर जिला जेल कवर्धा में निरूद्ध है जिसके बाद थाना सूरजपुर की पुलिस ने माननीय न्यायालय से प्रोडेक्शन वारंट प्राप्त कर आरोपी को कर्वधा जेल से विधिवत सूरजपुर लाया गया और विस्तृत पूछताछ के बाद दोनों मामलों में कंपनी के डायरेक्टर आरोपी जोगिंदर टाईगर पिता रघुवीर सिंह उम्र 66 वर्ष चंडीगढ़ पंजाब फनबिल, थाना सदर, जिला पटियाला पंजाब को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय सूरजपुर में पेश किया गया। पूछताछ पर आरोपी ने बताया कि वह पीएसीएल कंपनी का डायरेक्टर था और अन्य डायरेक्टर के साथ मिलकर निवेशकों के राशि को डबल करने का झांसा देकर धोखाधड़ी करते हुए सूरजपुर जिले के करीब 11 हजार निवेशकों का करीब 30 करोड़ रूपये की धोखाधड़ी किया है। इस कार्यवाही में थाना प्रभारी सूरजपुर प्रकाश राठौर, निरीक्षक जावेद मियांदाद, एसआई संतोष सिंह, एएसआई रोपन टोप्पो, प्रधान आरक्षक विवेकानंद सिंह, आरक्षक अनुज सिंह, सुहैल राजा व हरिशंकर सिंह सक्रिय रहे। 

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3
सायबर की पाठशाला में आज तीसरे पाठ में हम समझने की कोशिश कर रहे हैं कि एक सुरक्षित लिंक कैसा दिखता या होता है। धोखेबाज/अपराधी आम लोगों को ठगने के लिए बैंको के नाम से मिलते जुलते नाम या अक्षरों का प्रयोग करके एक यूआरएल/URL बनाता है और उसे मोबाइल पर सीधे मैसेज के रूप में भेजता है इन लिंकनुमा URL पर क्लिक करते ही आप ठगी के शिकार हो जाते हैं। यदि लिंक में anydesk, mingle, teamviewer जैसे शब्द हैं तो आपके फोन को हैक करने का प्रयास हो रहा है, तुरंत मैसेज डिलिट करें। लिंक पर क्लिक बिलकुल न करें। अनजान से व्यक्तियों से फोन पर ज्यादा बात न करें और न ही उन्हें किसी भी तरह की जानकारी दें चाहे कुछ भी हो जाए। तभी आप ठगी से बच पाएंगे। इस तरह के फर्जीवाड़ों पर और विस्तार से जानकारी के लिए इस श्रृंखला पर नजर बनाए रखें। पिछले पाठों को फिर से जानने के लिए/ पुनरावलोकन के लिए तस्वीर पर क्लिक करें या ऊपर के संबंधित टैब (सायबर की पाठशाला) पर क्लिक करें।