सोमवार, 30 मई 2022

नशे के विरूद्ध सूरजपुर पुलिस द्वारा जारी अभियान में एक बड़ी सफलता। अवैध नशीली दवाईयों का जखीरा थाना विश्रामपुर पुलिस ने किया बरामद


6 लाख रूपये कीमत के 15000 नग अल्प्राजोलम टेबलेट, 105 नग एविल इंजेक्शन, 100 नग रेक्सोजेसिक इंजेक्शन, 20 नग टी-जेसिक इंजेक्शन, परिवहन में प्रयुक्त एक्टिवा वाहन सहित 6 आरोपी गिरफ्तार।

सूरजपुर। पुलिस अधीक्षक श्री रामकृष्ण साहू के निर्देश के बाद अवैध कारोबारियों के विरूद्ध पुलिस की निरंतर कार्यवाही जारी है। इसी क्रम में सोमवार को विश्रामपुर पुलिस ने मुखबीर की सूचना पर कार्यवाही करते हुए अवैध नशीली दवाईयों का बड़ा जखीरा बरामद कर 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर व सीएसपी जे.पी.भारतेन्दु के मार्गदर्शन में थाना विश्रामपुर पुलिस को मुखबीर से सूचना मिला की ग्राम शिवनंदनपुर निवासी आशीष शर्मा उर्फ राजा एवं सतपता निवासी गुल्लूराम नशीली दवाई इंजेक्शन बाहर से लाकर अपने साथी बबली राव उर्फ दिनेश राव, विकास राव, सोनिया राव तथा संजीवी शर्मा निवासी शिवनंदनपुर के साथ मिलकर बिक्री करने का काम करते है और आज भी बैकुण्ठपुर कोरिया की तरफ से आशीष और गुल्लूराम एक्टिवा स्कूटी वाहन से नशीली दवाई लेकर शिवनंदनपुर की ओर आ रहे है। थाना प्रभारी ने इसकी सूचना से पुलिस अधीक्षक को अवगत कराया जिन्होंने सतर्कतापूर्वक तत्काल घेराबंदी कर कार्यवाही करने के निर्देश दिए।
            थाना विश्रामपुर की पुलिस ने सूचना पर त्वरित कार्यवाही करते हुए सतपता में घेराबंदी कर स्कूटी वाहन सहित आशीष शर्मा एवं गुल्लूराम को पकड़ा गया जिनके कब्जे से 3000 नग अल्प्राजोलम टेबलेट, 30 नग एविल इंजेक्शन, 30 नग रेक्सोजेसिक इंजेक्शन पाया गया। पूछताछ पर आरोपियों ने बताया कि शिवनंदनपुर के दिनेश राव, विकास राव, सोनिया राव तथा संजीवी शर्मा सभी एक ही घर के रहने वाले है जो नशीली दवाई बिक्री का काम करते है जिन्हें भारी मात्रा में नशीली दवाई बिक्री हेतु दिया गया है। सूचना के आधार पर विश्रामपुर पुलिस टीम ने विधिवत् इनके घर में दबिश देकर आरोपियों के कब्जे से 75 नग एविल इंजेक्शन, 70 नग रेक्सोजेसिक इंजेक्शन, 12000 नग अल्प्राजोलम टेबलेट, 20 नग टी-जेसिक इंजेक्शन, 30 नग निडील सिरिंज जप्त किया है। जप्त की गई नशीली दवाईयों का बाजारू कीमत करीब 6 लाख रूपये है।
मामले में आरोपी 1. आशीष शर्मा उर्फ राजा पिता स्व. ललित शर्मा उम्र 21 वर्ष निवासी ग्राम शिवनंदनपुर, 2. गुल्लूराम पिता ललन राम उम्र 27 वर्ष निवासी सतपता, 3. दिनेश राव उर्फ बबली पिता के. सत्यनारायण राव उम्र 29 वर्ष 4. विकास राव पिता स्व. के. सत्यनारायण राव उम्र 43 वर्ष 5. सोनिया राव पति दिनेश राव उम्र 23 वर्ष 6. संजीवी शर्मा पति स्व. ललित शर्मा उम्र 42 वर्ष निवासी शिवनंदनपुर के विरूद्ध धारा 21(सी) एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्यवाही करते गिरफ्तार किया गया। इस कार्यवाही में थाना प्रभारी विश्रामपुर ट्रेनी आईपीएस संदीप कुमार पटेल, चौकी प्रभारी लटोरी शिवकुमार खुटे, एएसआई अरूण गुप्ता, प्रधान आरक्षक आनंद सिंह, नवीन सिंह, अविनाश सिंह, विकास सिंह, सुशील तिवारी, महिला प्रधान आरक्षक अगाथा लकड़ा, आरक्षक अकरम मोहम्मद, देवनंदन राजवाड़े, बिहारी पाण्डेय, हरविन्दर सिंह, मुकेश साहू, राकेश यादव, कुन्दन सिंह, प्यारेलाल, अजय प्रताप राव, नागेश नाहक व बिसुन पैंकरा सक्रिय रहे। 

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3
सायबर की पाठशाला में आज तीसरे पाठ में हम समझने की कोशिश कर रहे हैं कि एक सुरक्षित लिंक कैसा दिखता या होता है। धोखेबाज/अपराधी आम लोगों को ठगने के लिए बैंको के नाम से मिलते जुलते नाम या अक्षरों का प्रयोग करके एक यूआरएल/URL बनाता है और उसे मोबाइल पर सीधे मैसेज के रूप में भेजता है इन लिंकनुमा URL पर क्लिक करते ही आप ठगी के शिकार हो जाते हैं। यदि लिंक में anydesk, mingle, teamviewer जैसे शब्द हैं तो आपके फोन को हैक करने का प्रयास हो रहा है, तुरंत मैसेज डिलिट करें। लिंक पर क्लिक बिलकुल न करें। अनजान से व्यक्तियों से फोन पर ज्यादा बात न करें और न ही उन्हें किसी भी तरह की जानकारी दें चाहे कुछ भी हो जाए। तभी आप ठगी से बच पाएंगे। इस तरह के फर्जीवाड़ों पर और विस्तार से जानकारी के लिए इस श्रृंखला पर नजर बनाए रखें। पिछले पाठों को फिर से जानने के लिए/ पुनरावलोकन के लिए तस्वीर पर क्लिक करें या ऊपर के संबंधित टैब (सायबर की पाठशाला) पर क्लिक करें।