शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2021

पुलिस अधीक्षक सूरजपुर ने जिले के थाना व चौकी प्रभारियों की ली क्राईम मीटिंग........

अच्छे कार्यो हेतु सदैव रहे तत्पर, आपात स्थिति से निपटने बनाए रणनीति।

जवानों की समस्या से अवगत हो निराकरण हेतु दे जानकारी।

सूरजपुर: थानों में लंबित अपराध, शिकायतों की विस्तृत जानकारी लेकर उनके निराकरण में तेजी लाने, सामुदायिक पुलिसिंग को बढ़ावा देने, समंस वारंट की तामिली का स्तर में बढ़ोत्तरी एवं जिले में कानून व्यवस्था बनाये रखने तथा अपराध पर अंकुश लगाने के उद्देश्य से पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री राजेश कुकरेजा ने जिले के पुलिस अधिकारियों की क्राईम मीटिंग शुक्रवार 12 फरवरी 2021 को जिला पुलिस कार्यालय के सभाकक्ष में ली।
          इस दौरान पुलिस अधीक्षक श्री राजेश कुकरेजा ने थाना चौकी प्रभारियों से पुराने लंबित सभी अपराधों की विस्तृत जानकारी ली और थाना प्रभारियों को उनके निराकरण हेतु आवश्यक दिशा-निर्देश दिये इसी प्रकार उन्होंने लंबित चालान एवं शिकायतों की विधिसम्मत जांच समय पर करते हुए निराकरण करने के निर्देश दिए। उन्होंने महिला संबंधी अपराधों को निकाल जल्द करने, पुलिस राजपत्रित अधिकारियों को थाना-चैकी का विजिट बढ़ाने, अधिनस्थों को अच्छे कार्यो हेतु प्रोत्साहित कर बेहतर कार्य लिए जाने एवं उनसे नियमित तौर पर दिनचर्या के कार्यो, उनकी समस्या से अवगत हो निराकरण हेतु अवगत करानेे के निर्देश दिए। उन्होंने थाना-चौकी प्रभारियों को कहा कि सदैव अच्छे कार्यो हेतु तत्पर रहे और उसे करते रहें, बैंकों की नियमित चेकिंग एवं उसके आसपास पुलिस बल की मौजूदगी बनाए रखे, बैंक के शाखा प्रबंधकों से मुलाकात कर बैंक की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम सुनिश्चित कराए, निगरानी बदमाशों की नियमित जांच किए जाने, सूचना तंत्र को मजबूत करने तथा नियमित व प्रभावी रूप से पेट्रोलिंग करने के निर्देश दिये है। बैठक में कई मामलों के फरार आरोपी दिगर राज्य के होने की जानकारी पर उन्होंने नियमानुसार अनुमति प्राप्त कर पुलिस टीम को जल्द रवाना किए जाने के निर्देश दिए।
         बैठक में पुलिस अधीक्षक ने विशेष तौर पर कहा कि आम जनता पुलिस से आषा करती है कि उनके समस्याओं का निराकरण समय पर हो इसलिये सभी आवष्यक कार्य करें, नागरिकों को ठगी से बचाने के लिए सामुदायिक पुलिसिंग पर जोर दिया जाए, शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में धोखाधड़ी से बचाव के बारे में लोगों को जागरूक करने के साथ ही क्षेत्र में कड़ी निगाह बनाए रखने, थाना-चैकी प्रभारियों बगैर अनुमति के अपने कार्यक्षेत्र को न छोड़ने, अवैध नशीली दवाओं तथा मादक पदार्थ के कारोबार को जड़ से उखाड़ फेंकने हेतु सार्थक कदम उठाने के निर्देश दिए। उन्होंने आपात स्थिति से निपटने हेतु थाना-चैकी प्रभारियों को रणनीति बनाने के निर्देश दिए।
          इस दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर, एसडीओपी प्रेमनगर प्रकाश सोनी, एसडीओपी ओड़गी मंजूलता बाज, जिला पुलिस कार्यालय के अधिकारी, जिले के थाना चौकी प्रभारी सहित पुलिस के अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।