मंगलवार, 28 दिसंबर 2021

पुलिस अधीक्षक सूरजपुर ने थाना-चौकी प्रभारियों की ली क्राईम मीटिंग

हर सर हेलमेट के तहत आमजनता को हेलमेट के उपयोग के लिए प्रोत्साहित करने के निर्देश
लंबित मामलों का जल्द निराकरण करने की प्रभारियों को सख्त हिदायत

सूरजपुर।     मंगलवार को पुलिस अधीक्षक श्रीमती भावना गुप्ता ने जिला पुलिस कार्यालय के सभाकक्ष में राजपत्रित अधिकारियों की मौजूदगी में थाना-चौकी प्रभारियों की क्राईम मीटिंग ली। लंबी चली इस मीटिंग में थाना-चौकी प्रभारियों से लंबित अपराध, मर्ग, शिकायत की विस्तृत जानकारी ली और जल्द निराकरण के निर्देश दिए। पुलिस अधीक्षक ने प्रभारियों को कहा कि अपराध एवं अपराधियों पर अंकुश लगाने जरूरी कदम उठाए, सक्रियता के साथ पेट्रोलिंग व रात्रि गश्त की जाए, महिला तथा बालिकाओं से संबंधित अपराधों पर त्वरित कार्यवाही एवं उत्कृष्ट विवेचना करने, चिटफण्ड के लंबित मामलों की नियमित जांच एवं आरोपियों की पतासाजी कर गिरफ्तार करने, वर्ष के समाप्ति में अधिक से अधिक लंबित मामलों का निराकरण किया जाए और यह विशेष रूप से ध्यान रखा जाए की निराकरण में विवेचना का स्तर उत्कृष्ट रहे। फरार आरोपियों की पतासाजी करते हुए गिरफ्तारी के लिए टीम रवाना करने, सड़क दुर्घटना को कम करने, यातायात नियमों के प्रति आमजनता को जागरूक करने के साथ ही नियमों की अनदेखी पर कार्यवाही करने एवं जरूरतमंद आमजनता को ठंड से बचाव के लिए गर्म कपड़े व कम्बल जनसहयोग से वितरण करने के निर्देश दिए। सड़क दुर्घटना में हेड इन्जुरी से ज्यादातर मृत्यु होती है इसे रोकने के लिए हर सर हेलमेट के प्रति आमजनता को प्रोत्साहित करने के निर्देश दिए।
            पुलिस अधीक्षक ने सड़क दुर्घटना की मॉनिटरिंग, दुर्घटना की वजह एवं सड़क हादसे पर रोक लगाने संबंधी जानकारी आईरेड पोर्टल पर अनिवार्य रूप अपलोड करने, गुम इंसान की पतासाजी गंभीरतापूर्वक कर दस्तयाब किए जाने, स्थाई वारंटों की तामीली सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए। लंबित गंभीर अपराधों के निराकरण के लिए पुलिस राजपत्रित अधिकारियों को नियमित तौर पर ऐसे मामलों की मॉनिटरिंग करने, लापरवाही पूर्वक वाहन चलाने वालों के ड्राईविंग लायसेंस निलंबित कराने, अंतर्राज्जीय चेकपोस्ट पर कड़ी जांच करते हुए निगरानी रखने, शहर व प्रमुख चौक-चौहारों में पुलिस की मौजूदगी शाम-रात्रि के समय सुनिश्चित कराने, शिकायत-समस्या लेकर आने वाले फरियादियों की समस्याओं को गंभीरतापूर्वक सुनकर उसका निराकरण किए जाने, सामुदायिक पुलिसिंग के तहत क्षेत्र में चलित थाना, ग्राम चौपाल लगाकर लोगों की शिकायतों का मौके पर निराकरण करते हुए वर्तमान समय में हो रहे धोखाधड़ी से आमजनों को जागरूक करने के निर्देश दिए। उन्होंने सख्त लहजे में कहा कि अवैध कारोबार पर पूर्ण रूप से अंकुश लगाई जाए, अवैध कार्याे में लिप्त लोगों की सूचना देने हेतु सूचना तंत्र को मजबूत किए जाए ताकि ऐसे लोगों पर सख्त कार्यवाही की जा सके। इस दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हरीश राठौर, एएसपी मुख्यालय पी.एस.महिलाने, सीएसपी जे.पी.भारतेन्दु, एसडीओपी प्रेमनगर प्रकाश सोनी, एसडीओपी सूरजपुर गीता वाधवानी, एसडीओपी प्रतापपुर अमोलक सिंह, डीएसपी अजाक स्थापना प्रभारी अखिलेश सिंह, थाना-चौकी प्रभारी सहित जिला पुलिस कार्यालय के अधिकारीगण मौजूद रहे।

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3
सायबर की पाठशाला में आज तीसरे पाठ में हम समझने की कोशिश कर रहे हैं कि एक सुरक्षित लिंक कैसा दिखता या होता है। धोखेबाज/अपराधी आम लोगों को ठगने के लिए बैंको के नाम से मिलते जुलते नाम या अक्षरों का प्रयोग करके एक यूआरएल/URL बनाता है और उसे मोबाइल पर सीधे मैसेज के रूप में भेजता है इन लिंकनुमा URL पर क्लिक करते ही आप ठगी के शिकार हो जाते हैं। यदि लिंक में anydesk, mingle, teamviewer जैसे शब्द हैं तो आपके फोन को हैक करने का प्रयास हो रहा है, तुरंत मैसेज डिलिट करें। लिंक पर क्लिक बिलकुल न करें। अनजान से व्यक्तियों से फोन पर ज्यादा बात न करें और न ही उन्हें किसी भी तरह की जानकारी दें चाहे कुछ भी हो जाए। तभी आप ठगी से बच पाएंगे। इस तरह के फर्जीवाड़ों पर और विस्तार से जानकारी के लिए इस श्रृंखला पर नजर बनाए रखें। पिछले पाठों को फिर से जानने के लिए/ पुनरावलोकन के लिए तस्वीर पर क्लिक करें या ऊपर के संबंधित टैब (सायबर की पाठशाला) पर क्लिक करें।