बुधवार, 6 फ़रवरी 2019

शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय विश्रामपुर में यातायात जागरूकता कार्यक्रम




सूरजपुर। पुलिस अधीक्षक सूरजपुर जी.एस.जायसवाल के निर्देश पर यातायात सड़क सुरक्षा सप्ताह के अन्तर्गत शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय विश्रामपुर में स्कूली छात्राओं को यातायात नियमों के प्रति जागरूकता लाने के उद्देश्य से अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती मेघा टेंभुरकर की अध्यक्षता यातायात जागरूकता कार्यक्रम आयोजित की गई।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रही अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्रीमती मेघा टेंभुरकर ने यातायात जागरूकता कार्यक्रम में छात्राओं के उत्साह को देखते हुये प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि इसी प्रकार का आयोजन वृहद रूप से अन्य स्कूलों में छात्र/छात्राओं को यातायात नियमों की जानकारी दी जा रही है ताकि यातायात नियमों का पालन करने से दुर्घटना से बचाव हो सके। छात्राओं को स्कूल से निकलते समय सड़क पर झुंड बनाकर नहीं चलने, सड़क के दोनों ओर देखने के बाद ही सड़क पार करने हेतु कहा। उन्होंने यातायात नियमों की जानकारी से अपने परिजनों को भी अवगत कराने हेतु कहा। 
इस अवसर पर डीएसपी लाईन प्रकाश सोनी के द्वारा यातायात के संबंध में चलाये जा रहे जागरूकता अभियान के संबंध में विस्तृत रूपरेखा से अवगत कराते हुए छात्राओं को यातायात नियमों का पालन करते हुये इस जन जागरूकता के कार्य पुलिस में सहयोग करें। रक्षित निरीक्षक भूपेन्द्र कुर्रे के द्वारा यातायात के नियमों के संबंध में महत्वपूर्ण संकेतों की जानकारी दी।
कार्यक्रम में यातायात प्रभारी आर.सी.राय के द्वारा छात्राओं को सड़क दुर्घटना में हुये घायल व्यक्ति को तत्काल सहायता पहुंचाने, घायल व्यक्ति को घटना स्थल से अस्पताल किस प्रकार से सावधानी पूर्वक उठाई जाए ताकि गंभीर रूप से घायल व्यक्ति सकुशल अस्पताल तक पहुंच जाए और उसकी प्राणों की रक्षा संभव हो सके। यातायात आरक्षक रामप्रसाद साडिल्य के द्वारा स्कूल प्रांगण में यातायात नियमों का डेमो दिया गया एवं यातायात के संकेतों का तात्पर्य से छात्र/छात्राओं को अवगत कराया। स्कूल के प्राचार्य आशिष भट्टाचार्य ने छात्राओं को यातायात नियमों का पालन करने हेतु कहा और भरोसा दिलाया कि वह स्वयं यातायात के प्रति जागरूक रहकर स्कूली छात्राओं सहित अन्य लोगों को भी यातायात के प्रति जागरूक करेंगे।
इस दौरान थाना प्रभारी विश्रामपुर कपिलदेव पाण्डेय, एएसआई विमलेश सिंह, देवनाथ चैधरी, स्कूल के शिक्षक एवं यातायात के कर्मचारीगण सहित स्कूली छात्राएं उपस्थित रहे।

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3
सायबर की पाठशाला में आज तीसरे पाठ में हम समझने की कोशिश कर रहे हैं कि एक सुरक्षित लिंक कैसा दिखता या होता है। धोखेबाज/अपराधी आम लोगों को ठगने के लिए बैंको के नाम से मिलते जुलते नाम या अक्षरों का प्रयोग करके एक यूआरएल/URL बनाता है और उसे मोबाइल पर सीधे मैसेज के रूप में भेजता है इन लिंकनुमा URL पर क्लिक करते ही आप ठगी के शिकार हो जाते हैं। यदि लिंक में anydesk, mingle, teamviewer जैसे शब्द हैं तो आपके फोन को हैक करने का प्रयास हो रहा है, तुरंत मैसेज डिलिट करें। लिंक पर क्लिक बिलकुल न करें। अनजान से व्यक्तियों से फोन पर ज्यादा बात न करें और न ही उन्हें किसी भी तरह की जानकारी दें चाहे कुछ भी हो जाए। तभी आप ठगी से बच पाएंगे। इस तरह के फर्जीवाड़ों पर और विस्तार से जानकारी के लिए इस श्रृंखला पर नजर बनाए रखें। पिछले पाठों को फिर से जानने के लिए/ पुनरावलोकन के लिए तस्वीर पर क्लिक करें या ऊपर के संबंधित टैब (सायबर की पाठशाला) पर क्लिक करें।