रविवार, 15 जनवरी 2023

सूरजपुर में सदभावना क्रिकेट मैच का आयोजन। पुलिस प्रशासन व पत्रकार की टीम ने मैच खेलकर दिया यातायात नियमों के प्रति जागरूकता का संदेश

सूरजपुर। 33वां राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा सप्ताह के पांचवे दिन रविवार को पुलिस लाईन सूरजपुर के खेल मैदान में पुलिस अधीक्षक श्री रामकृष्ण साहू (भा.पु.से.) की मौजूदगी में पुलिस प्रशासन व पत्रकार के बीच सदभावना क्रिकेट मैच हुआ। आहूत सद्भावना क्रिकेट मैच में पत्रकार इलेवन व पुलिस इलेवन की टीमों ने शानदार प्रदर्शन किया। टॉस जीत कर पहले बैटिंग के लिए उतरी पत्रकार इलेवन की टीम 12 ओवर में शानदार खेल का प्रदर्शन कर 31 रन बनाए। लक्ष्य का पीछा करने उतरी पुलिस इलेवन की टीम ने 36 रन बनाया। प्रतियोगिता के विजेता एवं उप विजेता टीम को सड़क सुरक्षा सप्ताह के समापन अवसर पर सम्मानित कर पुरस्कृत किया जायेगा।
                पुलिस अधीक्षक सूरजपुर श्री रामकृष्ण साहू (भा.पु.से.) ने मैच के पूर्व पत्रकार व पुलिस दोनों टीमों के खिलाड़ियों से परिचय प्राप्त कर मैच के लिए शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि सड़क सुरक्षा सप्ताह के अवसर पर यह सदभावना क्रिकेट मैच का आयोजन किया गया, जिसका मुख्य उद्धेश्य लोगों में यातायात नियमों के प्रति जागरूकता एवं हमारे जीवन में यातायात के नियम क्यों जरूरी है उसका संदेश देना था।
                सड़क सुरक्षा के प्रति लोगों को जागरूकता का संदेश देने के लिए आयोजित सदभावना क्रिकेट मैच में पत्रकार व पुलिस की टीम ने खेल का भरपूर आनंद लिया और दौडते-भागते समय के बीच कुछ पल खेल एवं अपने लिए निकाला। इस दौरान पत्रकार इलेवन के कप्तान ओ.पी.तिवारी, पुलिस इलेवन के कप्तान एसडीओपी ओड़गी राजेश जोशी, पत्रकार सुशील अग्रवाल, नरेन्द्र जैन, अजय गुप्ता, अनवर खान, मुकेश गर्ग, डॉ. पी.एन.सिंह, सुशील सिंह, नौशाद अहमद, दिलशाद अहमद, मुकीद खान (जानी), शमरोज खान, विष्णु कसेरा, नितेश गुप्ता, अमीर खान, हासिम खान, अरमान मंसूरी, सुभाष गुप्ता, अंकित सोनी, राकेश जायसवाल, अफजल, इमाम हसन, आकाश गुप्ता, विरेन्द्र सिंह, रामजी साहू, आशीष साहू, अनूप जायसवाल, संस्कार अग्रवाल, महेन्द्र देवांगन, थाना प्रभारी सूरजपुर प्रकाश राठौर, यातायात प्रभारी बृजकिशोर पाण्डेय, रक्षित निरीक्षक भूपेन्द्र कुर्रे, एसआई संतोष सिंह, एएसआई हीरालाल साहू, वरिष्ठ नागरिक रामबिलास मित्तल सहित कई पुलिस अधिकारी-कर्मचारी मौजूद रहे।

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3

'सायबर की पाठशाला' : सायबर जागरूकता अभियान कड़ी-3
सायबर की पाठशाला में आज तीसरे पाठ में हम समझने की कोशिश कर रहे हैं कि एक सुरक्षित लिंक कैसा दिखता या होता है। धोखेबाज/अपराधी आम लोगों को ठगने के लिए बैंको के नाम से मिलते जुलते नाम या अक्षरों का प्रयोग करके एक यूआरएल/URL बनाता है और उसे मोबाइल पर सीधे मैसेज के रूप में भेजता है इन लिंकनुमा URL पर क्लिक करते ही आप ठगी के शिकार हो जाते हैं। यदि लिंक में anydesk, mingle, teamviewer जैसे शब्द हैं तो आपके फोन को हैक करने का प्रयास हो रहा है, तुरंत मैसेज डिलिट करें। लिंक पर क्लिक बिलकुल न करें। अनजान से व्यक्तियों से फोन पर ज्यादा बात न करें और न ही उन्हें किसी भी तरह की जानकारी दें चाहे कुछ भी हो जाए। तभी आप ठगी से बच पाएंगे। इस तरह के फर्जीवाड़ों पर और विस्तार से जानकारी के लिए इस श्रृंखला पर नजर बनाए रखें। पिछले पाठों को फिर से जानने के लिए/ पुनरावलोकन के लिए तस्वीर पर क्लिक करें या ऊपर के संबंधित टैब (सायबर की पाठशाला) पर क्लिक करें।